Followers

Thursday, October 31, 2019

"ग़ज़लनुमा दोहा छन्द"-

"ग़ज़लनुमा दोहा छन्द"-

इर्द गिर्द उनके फिरें, ऐसे वैसे लोग
सम्मानित होने लगे, कैसे कैसे लोग ।।

मूल्यवान पत्थर हुआ, हुए रत्न बेभाव
गुदड़ी में ही रह गए, हीरे जैसे लोग।।

चन्दा लेकर हो रहा, प्रायोजित सम्मान
वहाँ लुटाने जा रहे, अपने पैसे लोग।।

कुछ हंसों के बीच में, बगुले भी रख साथ
खुशियों की सौगात दें, जैसे तैसे लोग।।

दरबारों से दूर हैं, जाने उनको कौन?
सम्मानित होते नहीं, अक्सर ऐसे लोग ।।

अरुण कुमार निगम
आदित्य नगर, दुर्ग (छत्तीसगढ़)

2 comments:

  1. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (01-11-2019) को "यूं ही झुकते नहीं आसमान" (चर्चा अंक- 3506) " पर भी होगी।

    आप भी सादर आमंत्रित हैं….

    -अनीता लागुरी 'अनु'
    ---

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर शानदार सृजन।

    ReplyDelete