Followers

Tuesday, September 18, 2018

*जलहरण घनाक्षरी*

*जलहरण घनाक्षरी*
(विधान - परस्पर तुकांतता लिए चार पद/ 8, 8, 8, 8 या 16, 16 वर्णों पर यति/ अंत में दो लघु अनिवार्य)

धूल धूसरित तन, केश राशि श्याम घन
बाल क्रीड़ा में मगन, अलमस्त हैं किसन।
छनन छनन छन, पग बजती पैजन
लिपट रही किरण, चूम रही है पवन।
काज तज देवगण, देख रहे जन-जन
पुलकित तन-मन, निर्निमेष से नयन।
काग एक उसी क्षण, देख के रोटी माखन
आया छीन भाग गया, उत्तर दिशा गगन।।

रचनाकार - अरुण कुमार निगम
आदित्य नगर दुर्ग
छत्तीसगढ़

Saturday, September 15, 2018

*हिन्दी फिल्मों के गायक कलाकार*

*हिन्दी फिल्मों के गायक कलाकार*

गायक कलाकार फिल्मों के, रहते हैं पर्दे से दूर
किन्तु नायिका नायक को वे, कर देते काफी मशहूर।।

सहगल पंकज मलिक जोहरा, राजकुमारी और खुर्शीद
तीस और चालीस दशक की जनता इसकी हुई मुरीद।।

रफी मुकेश किशोर सचिन दा, मन्नाडे हेमंत सुबीर
कभी शरारत कभी निवेदन, कभी सुरों में बाँधी पीर।।

गीतादत्त सुरैया मीना, आशा लता सुधा शमशाद
सबकी अपनी अपनी शैली, सबके सुर का अपना स्वाद।।

कवि प्रदीप बातिश राजागुल, इक्का दुक्का राज कपूर
उमा कमल बारोट चुलबुली, सुन चढ़ता था मस्त सुरूर।।

हेमलता यशुदास रवीन्दर, कंचन पंचम दा शैलेन्द्र
मनहर ऊषा कविता अलका, लंबी तानें लिए महेंद्र।।

बरसों से हम सुनते आए, किया इन्होंने दिल पर राज
दिल से गाते थे ये सारे, दिल को छूती थी आवाज।।

अब के गायक गीत सुना कर, हिट हो जाते रातों रात
उतनी ही जल्दी खो जाते, जैसे गर्मी में बरसात

रचनाकार - अरुण कुमार निगम
आदित्य नगर, दुर्ग
छत्तीसगढ़

Friday, September 14, 2018

"हिन्दी भाषा भारत के लिए परम हितकारी है"


"हिन्दी भाषा भारत के लिए परम हितकारी है"
(जनकवि कोदूराम "दलित" जी की ताटंक छन्द आधारित हिन्दी कविता)

सरल सुबोध सरस अति सुंदर, लगती प्यारी-प्यारी है
देवनागरी लिपि जिसकी सारी लिपियों से न्यारी है
ऋषि-प्रणीत संस्कृत भाषा जिस भाषा की महतारी है
वह हिन्दी भाषा भारत के लिए परम हितकारी है।

सहती आई जो सदियों से संकट भारी भारी है
किन्तु रही जीवित अब तक उस भाषा की बलिहारी है
तुलसी सूर रहीम आदि ने की जिसकी रखवाली है
वह हिन्दी भाषा भारत के लिए परम हितकारी है।

कर न सकी जिसकी समता अरबी उर्दू हिंदुस्तानी
बनी सर्व-सम्मति से जो सारी भाषाओं की रानी
मंद पड़ गई जिसके आगे अँगरेजी बेचारी है
वह हिन्दी भाषा भारत मे लिए परम हितकारी है।

"जय हिन्दी-जय देव नागरी" - कहती दुनिया सारी है
आज हिन्द का बच्चा-बच्चा जिसका बना पुजारी है
भरी अनूठे रत्नों से जिसकी साहित्य-पिटारी है
वह हिन्दी भाषा भारत मे लिए परम हितकारी है।

रचनाकार - जनकवि कोदूराम "दलित"


Wednesday, August 29, 2018

कुण्डलिया छन्द - हॉकी

हाकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद के जन्मदिन, विश्व खेल दिवस पर.....शत-शत नमन

हॉकी

हाकी कल पहचान थी, आज हुई गुमनाम
खेल स्वदेशी खो गये , सिर चढ़ बैठा दाम
सिर चढ़  बैठा  दाम , शुरू  अब सट्टेबाजी
लाखों लाख कमायँ,नहीं भरता उनका जी
कलुषित है माहौल , कहाँ  सच्चाई बाकी
करें पुन: शुरुवात, उठा हम अपनी हाकी ||

अरुण कुमार निगम
आदित्य नगर, दुर्ग (छत्तीसगढ़)

Wednesday, August 22, 2018

"रेडियो श्रोता दिवस - 20 अगस्त

"रेडियो श्रोता दिवस - 20 अगस्त, छत्तीसगढ़ के श्रोताओं द्वारा घोषित दिवस"   - संस्मरण

आज रेडियो श्रोता दिवस पर मैं सत्तर के दशक के अपने अनुभव साझा कर रहा हूँ, मुझे विश्वास है कि उस दौर के श्रोता मित्र लगभग पचास वर्ष पुरानी स्मृतियों में जरूर खो जाएंगे। बाद के दशकों के श्रोताओं के लिए भी यह आलेख रुचिकर हो सकता है।

ऐसा माना जाता है कि भारतवर्ष में 20 अगस्त 1921 को स्वतंत्रता आंदोलन के समय कलकत्ता, बम्बई, मद्रास और लाहौर के शौकिया रेडियो ऑपरेटर्स ने अवैधानिक रूप से रेडियो प्रसारण किया था। मुम्बई में 23 जुलाई 1927 को रेडियो का विधिवत प्रसारण हुआ था। छत्तीसगढ़ के रेडियो प्रेमी श्रोताओं ने वर्ष 2008 से 20 अगस्त को रेडियो श्रोता दिवस के रूप में मनाना सुनिश्चित किया और निरंतर इस दिवस को मना रहे हैं। छत्तीसगढ़ का अनुसरण करते हुए देश के कई शहरों में भी यह दिवस मनाया जाने लगा है।
(यह जानकारी आदरणीय अशोक बजाज जी के एक आलेख से प्राप्त हुई, मैं उनका आभार प्रकट करता हूँ।)

अब अपने निजी संस्मरण प्रस्तुत कर रहा हूँ। सत्तर में दशक के प्रारंभ में मेरे पास मरफ़ी मिनी मास्टर ट्रांजिस्टर था। इसके पूर्व पड़ौसियों के घर में वाल्व वाले रेडियो सेट पर ही कुछ सुनने का सौभाग्य मिल पाता था। अपने मरफ़ी मिनी मास्टर पर मैं रेडियो सिलोन, विविध भारती, आल इंडिया रेडियो की उर्दू सर्विस, आकाशवाणी रायपुर और आकाशवाणी भोपाल के प्रसारित कार्यक्रम सुना करता था। रेडियो सिलोन के कार्यक्रम इतने रोचक होते थे कि मैं नियमित और सक्रिय श्रोता बन गया। बाद में रेडियो सिलोन का नाम श्रीलंका ब्रॉडकास्टिंग कारपोरेशन का विदेश विभाग हो गया।

उस दौर के श्रोताओं के नाम जो मुझे याद हैं -
दुर्ग से अरुण कुमार निगम, जसवन्त सिंह साव, जवाहर सिंह साव, जगदीश बम्बारडे, राजेश वर्मा, ज्ञानप्रकाश श्रीवास्तव, अम्बिका गीता दुबे आदि
भिलाई से राकेश मोहन विरमानी, छगन लाल लोन्हारे, कामता प्रसाद पटेल, प्रदीप भट्टाचार्य, एच कुमार साहनी आदि
राजनांदगाँव से प्रेमचंद जैन, जब्बार कुरैशी आदि
बालोद से वीरेंद्र कुमार मोजेस, छोटेलाल यादव, अरमान अश्क आदि
बेमेतरा से ईश्वरी साहू, मगरलोड से पुनुराम साहू
रायपुर से श्रीचंद अकेला, बिलासपुर से मो.रफीक कुरैशी, पत्थलगांव से हरजिंदर एस रंगीला, कानपुर से जगदीश निगम, भाटापारा से बचकामल, उदयपुर से ललित चौरडिया आदि।

उस दौर के आकाशवाणी रायपुर के उद्घोषक -लाल रामकुमार सिंह, कल्पना यदु आदि।

उस दौर के रेडियो सिलोन के उद्घोषक -विजय लक्ष्मी डिजेरम, मनोहर महाजन, दलवीर सिंह परमार, शीला तिवारी कुछ सिंहली उद्घोषक इंदिरा हीरानंद, विजय आदि।

रेडियो सिलोन (श्रीलंका ब्रॉडकास्टिंग कारपोरेशन का विदेश विभाग) से नियमित प्रसारित होने वाले कार्यक्रम - सुबह साढ़े सात से आठ बजे तक पुरानी फिल्मों का संगीत (इसमें उस समय के 20 वर्ष और अधिक अवधि के पुराने फिल्मी गीत बजा करते थे। अंतिम गीत हर हाल में गायक के.एल.सहगल का प्रसारित होता था। इस गीत को सुनकर पता चल जाता था कि सुबह के आठ बजने वाले हैं।) उस दौर के पुराने गीत जो इस कार्यक्रम में अक्सर बजा करते थे वे हैं -अफसाना लिख रही हूँ, आवाज दे कहाँ है, तू मेरा चाँद मैं तेरी चांदनी, तन डोले मेरा मन डोले, गाये जा गीत मिलन के, आजा मेरी बर्बाद मोहब्बत के सहारे, उड़ान खटोले पे उड़ जाऊँ, भगवान तुझे में खत लिखता, चोरी चोरी आग सी दिल में लगाके चल दिये, जब दिल ही टूट गया, बाबुल मोरा नैहर, गम दिए मुस्तक़िल कितना नाजुक था दिल, सो जा राज कुमारी, एक बंगला बने न्यारा, प्रेम नगर मैं बसाउंगी आदि। सहगल, सुरैया, अमीरबाई कर्नाटकी, उमा देवी, खुर्शीद, राजागुल, एस डी बातिश, जोहरा बाई अम्बालावाली आदि के स्वर इस कार्यक्रम में ज्यादातर सुनने मिलते थे।

सुबह 8 बजे से 9 बजे तक नई फिल्मों का फरमाइशी कार्यक्रम होता था। उस दौर की नई फिल्मों के ये गाने आप ही के गीत में बजा करते थे - गोरी ओ गोरी, प्रेम करले, ऐसा प्रेमी फिर ना मिलेगा, मैं एक राजा हूँ, चला जाता हूँ किसी की धुन में, धीरे धीरे बोल कोई सुन ना ले, बरखा रानी जरा जम के बरसो, दम मारो दम, हरे रामा हरे कृष्णा, इन्हीं लोगों ने ले लीन्हा दुपट्टा मेरा, पानी में जले मेरा गोरा बदन, वादा तेरा वादा, जब अंधेरा होता है, कभी कभी मेरे दिल में, मैं पल दो पल का शायर, ऐ जवानी ऐ दीवानी, मेरे दिल में आज क्या है आदि तत्कालीन नई फिल्मों के गीत।

सुबह 9 से 10 तक कोई न कोई साप्ताहिक कार्यक्रम होता था।

दोपहर 12 से 12.30 बहनों के लिए कार्यक्रम होते थे।
12.30 से 1.00 तक गैरफिल्मी गीत और गजल प्रसारित होते थे। जीयेंगे मगर मुस्कुरा न सकेंगे, मिल न सका दिल को अगर प्यार तुम्हारा, तेरे लबों के मुकाबिल गुलाब क्या होगा, हाँ में दीवाना हूँ, नथनी से टूटा मोती रे, प्यार भरा दिल तोड़ गए, सावन आया बादल छाए, तुम सामने बैठी रहो, इस दिल से तेरी याद, गजब किया तेरे वादे पे आदि।इस प्रोग्राम में रफी, मुकेश, आशा, लता, हेमंत, मन्नाडे के अलावा डैनी, राधा सलूजा, कमल बारोट आदि के भी गैर फिल्मी गीत सुनने को मिलते थे।

दोपहर 1.00 बजे से 2.00 बजे तक कुछ पचास के दशक और ज्यादातर साठ के दशक के गीतों का फरमाइशी कार्यक्रम जाने पहचाने गीत प्रसारित होता था। जैसे कुछ गीत - लाल लाल होठवा पे, सारंगा तेरी याद में, मेरा प्रेम पत्र पढ़कर, ओ महबूबा, महबूब मेरे, दिल के झरोखे में, कारवाँ गुजर गया, प्यार करले नहीं तो फाँसी चढ़ जाएगा, ओ मेरे सनम, पत्थर के सनम, तुझको पुकारे मेरा प्यार, दुनिया बनाने वाले, सजनवा बैरी हो गए हमार, प्रीत ये कैसी बोल रे दुनिया, ऐ मेरे दिले नादां, छुप गया कोई रे, सारी सारी रात तेरी याद सताए आदि समकालीन गीत।

साप्ताहिक कार्यक्रम -
रविवार की रात को 10 बजे से 11 बजे तक हमेशा जवां गीतों का फरमाइशी कार्यक्रम होता था।
शनिवार को शाम 7 से 7.30 तक एक रोचक कार्यक्रम "बदलते हुए साथी" होता था। इसमें एक गायक की आवाज से कार्यक्रम चालू होता था और दूसरे गायक की आवाज से कार्यक्रम का अंत होता था। इस बीच 6 गीतों की एक कड़ी होती थी। श्रोताओं के लिए यह कार्यक्रम एक चुनौती की तरह होता था। जैसे पूव में ही घोषणा होती थी कि अगले सप्ताह का बदलते हुए साथी कार्यक्रम शमशाद बेगम की आवाज से चालू होगा और हेमंत कुमार की आवाज से खत्म होगा। तब चैन ऐसे बनती थी -
शमशाद-रफी, रफी-सुमन,  सुमन-मुकेश,
मुकेश-आशा, आशा -लता, लता-हेमंत
इन छहों गीतों के फ़िल्म और गायक का नाम भेजना पड़ता था। तब कम चर्चित गायक का नाम शुरू या अंत में आता था तब गीत खोजने में बहुत मेहनत करनी पड़ती थी जैसे राजा गुल, एस डी बातिश, सुलोचना, अशोक कुमार आदि।

ऐसा ही दिलचस्प और पेचीदा एक कार्यक्रम रविवार की शाम 8 बजे से प्रसारित होता था। इसका नाम "वाक्य गीतांजलि" था। इसमें एक वाक्य दिया जाता था जिसके हर शब्द से शुरू होने वाले गीत का मुखड़ा और फ़िल्म का नाम लिख कर भेजना पड़ता था।
शुक्रवार को "पसंद अपनी अपनी, खयाल अपना अपना" कार्यक्रम आता था। आधे घंटे के इस कार्यक्रम में श्रोताओं की पसंद के गीत को क्यों पसंद है, इन विचारों के साथ प्रसारित किया जाता था।
गुरुवार को एक साहित्यिक कार्यक्रम "रेडियो पत्रिका" का प्रसारण होता था। इसे मनोहर महाजन पेश करते थे। इसमें साहित्यिक आलेख शामिल किए जाते थे।
गुरुवार को ही शाम 7.30 बजे से "जब आप गा उठे" कार्यक्रम आता था इसमें श्रोता एक भूमिका या घटना बना कर भेजते थे जिसके प्रासंगिक गीत भी श्रोता की ही पसंद का होता था।

रविवार की दोपहर को दलवीर सिंह परमार 1.00 बजे "कुछ इधर, कुछ उधर" कार्यक्रम प्रस्तुत करते थे। इसमें चुटकुले और हास्य कविताएँ शामिल की जाती थीं यह हास्य से भरपूर कार्यक्रम होता था।
मंगलवार को सुबह 9 बजे से एक रंग एक रूप कार्यक्रम प्रसारित होता था। इसमें श्रोता एक ही रंग के गीतों को एक कमेंट्री बना कर भेजते थे। उद्घोषक कमेंट्री पढ़ते हुए प्रेषित गीतों को सुनाया करते थे। यह होली, दीवाली जैसे त्यौहार से संबंधित भी हो सकता था, प्रेमी की पुकार से संबंधित भी हो सकता था, चाँद से संबंधित भी हो सकता था, रात से संबंधित भी हो सकता था, विरह गीतों का या मिलन गीतों का, श्रृंगार से संबंधित भी हो सकता था। कहने का मतलब एक घंटे तक एक ही विषय वस्तु के गीत इसमें शामिल होते थे।

रेडियो सिलोन से एक कार्यक्रम "भूले बिसरे गीत" का भी होता था। इसमें लगभग अनसुने से गीत, जो किन्हीं कारणों से पापुलर नहीं जो पाए, सुनाए जाते थे।
सप्ताह में एक दिन "हफ्ते के श्रोता" कार्यक्रम का प्रसारण होता था जिसमें श्रोताओं के पत्र शामिल होते थे। इन पत्रों में श्रोता का परिचय , पोस्टल एड्रेस, रुचि और शहर की खासियत का जिक्र होता था।

रेडियो के जमाने में श्रोताओं के बीच पत्र व्यवहार बहुत हुआ करता था। बहुत से मित्र इस पत्र व्यवहार के कारण घनिष्ठ हुए, यहाँ तक कि रेडियो सिलोन के कारण कुछ लोग दाम्पत्य सूत्र में भी बँध गए। रेडियो लोगों को जोड़ता था। टी वी ने लोगों के बीच दूरियाँ बढ़ा दी।

लिखने को अभीऔर भी बहुत कुछ है। यदि मित्रों को यह संस्मरण पसंद आया होतो इसका भाग - 2  भी लिख सकता हूँ।

अरुण कुमार निगम
आदित्य नगर, दुर्ग छत्तीसगढ़

Sunday, July 15, 2018

"कहाँ खजाना गड़ा हुआ है" ?


गजल -

सत्य जेल में पड़ा हुआ है
झूठ द्वार पर खड़ा हुआ है।।

बाँट रहा वह किसकी दौलत
कहाँ खजाना गड़ा हुआ है।।

उस दामन का दाग दिखे क्या
जिस पर हीरा जड़ा हुआ है।।

अब उससे उम्मीदें कैसी
वह तो चिकना घड़ा हुआ है।।

पाप कमाई, बाप कमाए
बेटा खाकर बड़ा हुआ है।।

लोकतंत्र का पेड़ अभागा
पत्ता पता झड़ा हुआ है।।

सत्ता का फल दिखता सुंदर
पर भीतर से सड़ा हुआ है।।

नर्म मुलायम दिल बेचारा
ठोकर खाकर कड़ा हुआ है।।

उसे राष्ट्रद्रोही बतला दो
"अरुण" अभी तक अड़ा हुआ है।।

अरुण कुमार निगम
आदित्य नगर, दुर्ग, छत्तीसगढ़

Friday, July 13, 2018

एक गजल - कुर्सी (अरुण कुमार निगम)

बहर
221 1222, 221 1222

कुछ काम नहीं करता, हर बार मिली कुर्सी
मंत्री का भतीजा है, उपहार मिली कुर्सी।।

गत सत्तर सालों में, कई रोग मिले तन को
जाँचा जो चिकित्सक ने, बीमार मिली कुर्सी।।

पाँवो को हुआ गठिया, है पीठ भी टेढ़ी-सी
लकवा हुआ हाथों को, लाचार मिली कुर्सी।।

फिर भी इसे पाने को, हर शख्स मचलता है
सेवा तो बहाना है, व्यापार मिली कुर्सी।।

कुछ पा न सके इसको, इक उम्र गँवा के भी
कुछ खास घरानों में, अधिकार मिली कुर्सी।।

है नाव सियासत की, उस पार खजाना है
जो लूट सके लूटे, पतवार मिली कुर्सी।।

जनता के खजाने को, क्या खूब लुटाती है
कहता है "अरुण" दिल से, दिलदार मिली कुर्सी।।

अरुण कुमार निगम
आदित्य नगर, दुर्ग (छत्तीसगढ़)