Followers

Tuesday, February 26, 2013

छंद सरसी


छंद सरसी
[16, 11 पर यति, कुल 27 मात्राएँ , पदांत में गुरु लघु]

चाक  निरंतर  रहे  घूमता , कौन  बनाता   देह |
क्षणभंगुर  होती  है  रचना  ,  इससे  कैसा  नेह ||

जीवित करने भरता इसमें ,  अपना नन्हा भाग |
परम पिता का यही अंश है , कर  इससे अनुराग ||

हरपल कितने पात्र बन रहे, अजर-अमर है कौन |
कोलाहल-सा खड़ा प्रश्न है   , उत्तर लेकिन मौन ||

एक बुलबुला बहते जल का   समझाता है यार |
छल-प्रपंच से बचकर रहना, जीवन के दिन चार ||

अरुण कुमार निगम
आदित्य नगर, दुर्ग (छत्तीसगढ़)
शम्भूश्री अपार्टमेंट, विजय नगर, जबलपुर (म.प्र.)

13 comments:

  1. नई विधा -
    अच्छा पिरोया है भावों को
    आभार भाई जी ||

    ReplyDelete
  2. एक बुलबुला बहते जल का , समझाता है यार |
    छल-प्रपंच से बचकर रहना, जीवन के दिन चार ||
    Bahut Sunder....

    ReplyDelete
  3. चाक निरंतर रहे घूमता , कौन बनाता देह |
    क्षणभंगुर होती है रचना , इससे कैसा नेह || ... सच कहा

    ReplyDelete
  4. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  5. हरपल कितने पात्र बन रहे, अजर-अमर है कौन |
    कोलाहल-सा खड़ा प्रश्न है , उत्तर लेकिन मौन ||
    bahut behtar

    ReplyDelete
  6. छंद सरसी में लिखने का छोटा सा प्रयास ,,,

    जीवन मिलता है मुसकिल से,करो जरूरी काम
    वर्ना फ़िर समय नही मिलेगा,हो जायेगी शाम,,,,,


    Recent Post: कुछ तरस खाइये

    ReplyDelete
  7. आदरणीय गुरुदेव श्री छंद सरसी का ज्ञान एवं रचना का आनंद देने हेतु सादर आभार. प्रस्तुति बहुत ही सुन्दर है हार्दिक बधाई स्वीकारें

    ReplyDelete
  8. बहुत सार्थक और सटीक अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  9. सहज सार्थक लयात्मक पोस्ट गेयता ही गेयता .प्रवाह निश्छल वेगवती काव्य धारा बन उमड़ा है .आभार आपकी टिपण्णी का .आपकी टिपण्णी हमारी शान है .

    ReplyDelete
  10. behatareen, satik aur sarthak prastuti,

    ReplyDelete
  11. लाजवाब प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  12. जीवित करने भरता इसमें , अपना नन्हा भाग |
    परम पिता का यही अंश है , कर इससे अनुराग ||

    हरपल कितने पात्र बन रहे, अजर-अमर है कौन |
    कोलाहल-सा खड़ा प्रश्न है , उत्तर लेकिन मौन ||

    दार्शनिक विचारों को स्वर देता प्रवाहयुक्त सुंदर छंद की सशक्त पंक्तियां।

    ReplyDelete