Followers

Thursday, August 18, 2011

मैं और तुम.........

मैं धूल हूँ , तुम चंदन रोली
तुम दीवाली , मैं  हूँ  होली
तुम ज्योति , मैं हूँ अंधकार
मैं अर्थी हूँ , तुम हो डोली.

तुम प्राची की ऊषा – लाली
मैँ क्षितिज – अरुण अस्ताचल का
तुम दाग से बच कर चलती हो
मैं दाग किसी के काजल का.

मिलन कहाँ ? अब तुम्हीँ कहो
तुम स्नेह-सुधा , मैं विष-प्याला
विस्मृत कर दो अब मुझे प्रिये
तुम गंगाजल , मैं  मधुशाला.

मणिकांचन जीवन का आंगन
जीवन का आसव है तुमसे
मैं मृत्यु-पुजारी हूँ मेरा
मिलन असम्भव है तुमसे.

अरुण कुमार निगम
आदित्य नगर ,दुर्ग
(छत्तीसगढ़)


{रचना वर्ष – 1978}

19 comments:

  1. मिलन कहां, अब तुम्ही कहो,
    तुम स्नेह सुधा, मैं विष प्याला।

    वाह, बहुत सुंदर रचना।

    ReplyDelete
  2. मेरे ब्लाग पर आने के लिए धन्यवाद...खूबसूरत अभिव्यक्ति...आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  3. मिलन कहाँ ? अब तुम्हीँ कहो
    तुम स्नेह-सुधा , मैं विष-प्याला
    विस्मृत कर दो अब मुझे प्रिये
    तुम गंगाजल , मैं मधुशाला.

    बहुत ही अच्छा लिखा है सर।

    सादर

    ReplyDelete
  4. मिलन कहाँ ? अब तुम्हीँ कहो
    तुम स्नेह-सुधा , मैं विष-प्याला
    विस्मृत कर दो अब मुझे प्रिये
    तुम गंगाजल , मैं मधुशाला.
    behtareen bhaw

    ReplyDelete
  5. गज़ब की भावाव्यक्ति………बहुत सुन्दर शब्द संयोजन

    ReplyDelete
  6. विपरीत भावों को खूबसूरती से लिखा है ..बहुत अच्छी रचना

    ReplyDelete
  7. बहुत ही अच्छे शब्दों द्धारा बताया है।

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर गीत है अरुण भाई...
    सादर बधाई....

    ReplyDelete
  9. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल शुक्रवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  10. main aur tum ki bhaut hi khubsurat abhivaykti....

    ReplyDelete
  11. बहुत सारगर्भित प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर अभिब्यक्ति .दिल से लिखी गई रचना./बहुत बदिया ,दिल को छु गई/बधाई आपको /



    please visit my blog and leave the comments also.thanks.

    ReplyDelete
  13. दोनों के एहसास को बहुत खूबसूरती से परिभाषित करती सुन्दर रचना |

    ReplyDelete
  14. सार्थक और सारगर्भित पोस्ट......

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर शब्द संयोजन

    ReplyDelete
  16. मिलन कहाँ ? अब तुम्हीँ कहो
    तुम स्नेह-सुधा , मैं विष-प्याला
    विस्मृत कर दो अब मुझे प्रिये
    तुम गंगाजल , मैं मधुशाला.

    ...बहुत सुन्दर और भावपूर्ण प्रस्तुति..शब्दों, भावों और लय का सुन्दर संयोजन..

    ReplyDelete