Followers

Monday, July 18, 2011

एकाकीपन गीत-सृजन का तत्व हुआ


एकाकीपन गीत-सृजन का तत्व हुआ
इसीलिये  एकाकी से अपनत्व हुआ.

हृदय - धरातल पर होते हैं भाव अंकुरित
नयन-नीर से होता है वह पुष्प पल्लवित
पुष्प जिसे जग ने संज्ञा दी प्रेम-पुष्प की
प्रेम वही जिसे प्राप्त यहाँ अमरत्व हुआ.

एकाकीपन गीत-सृजन का तत्व हुआ
इसीलिये  एकाकी से अपनत्व हुआ.

शून्य ब्रह्म हो जहाँ नहीं,सविता हो कैसे
प्रेरक रत्नावली नहीं  – कविता हो कैसे
प्रेमहीन ! सम्बोधन का पर्याय “असम्भव”
प्रेम-भाव ही  जग में जीवन-सत्व हुआ.

एकाकीपन गीत-सृजन का तत्व हुआ
इसीलिये  एकाकी से अपनत्व हुआ.

अरुण कुमार निगम
आदित्य नगर
दुर्ग (छत्तीसगढ़)

18 comments:

  1. बहुत सुंदर भाव संजोये हैं आपने.बधाई

    ReplyDelete
  2. ये हुई न बात ||
    एकाकी पन की सौगात ||
    दुनिया की आधी रचनाएं,
    लेख, बात, बे-बात ||

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन रचना बधाई अरूण जी।

    ReplyDelete
  4. आपके इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 19-07-2011 के मंगलवारीय चर्चा मंच http://charchamanch.blogspot.com/ पर भी होगी आप सादर पधार कर अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराएं

    ReplyDelete
  5. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ लाजवाब रचना! उम्दा प्रस्तुती!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर भाव्।

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर रचना
    दार्शनिक भी
    वास्तविक भी
    काव्य के सभी तत्त्वों को समाहित करती हुई...........



    शून्य ब्रह्म हो जहाँ नहीं,सविता हो कैसे
    प्रेरक रत्नावली नहीं – कविता हो कैसे
    प्रेमहीन ! सम्बोधन का पर्याय “असम्भव”
    प्रेम-भाव ही जग में जीवन-सत्व हुआ.



    उपरोक्त पंक्तियाँ बहुत कुछ समेटे हुए हैं।


    सच में गागर में सागर
    सुन्दर शब्द-संयोजन.....

    ReplyDelete
  8. एकाकी से अपनत्व ... गहन भावों को समेटे अच्छी रचना ..

    ReplyDelete
  9. आस्था और विश्वास से ओतप्रोत सुन्दर रचना !

    ReplyDelete
  10. bahut sunder bhav liye anoothi kavitaa.badhaai aapko.




    please visit my blog.thanks.

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर भाव्।

    ReplyDelete
  12. मेरी नई पोस्ट पर आपका स्वागत है
    ' नीम ' पेड़ एक गुण अनेक..........>>> संजय भास्कर
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com/2011/07/blog-post_19.html

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर रचना...

    ReplyDelete
  14. आपके ब्लॉग में आकर अच्छा लगा अरुण भाई...
    बड़े सुन्दर रचनाएं हैं....
    सादर...

    ReplyDelete
  15. बहुत अच्छे भाव लिए हुए उत्कृष्ट रचना

    ReplyDelete
  16. sach kaha ekaki se rachna ka srijan hua.
    utkrisht abhivyakti.

    ReplyDelete