Followers

Wednesday, November 16, 2016

किस करवट है बैठता, देखें अब के ऊँट

*दोहा छन्द*`

निर्णय के परिणाम से, हर कोई है स्तब्ध
सहनशीलता सर्वदा, जनता का प्रारब्ध ।

जनता ने पी ही लिया, फिर से कड़ुवा घूँट
किस करवट है बैठता, देखें अब के ऊँट ।

दूषित नीयत से अरुण, पनपा भ्रष्टाचार
आशान्वित होकर सदा, जनता बनी कतार ।

आकर कर दो राम जी, दुराचार को नष्ट
राम राज की आस में, जनता सहती कष्ट ।

विस्फारित आँखें लिए, ताक रहा आतंक
हर कोई जनता बना, क्या राजा क्या रंक ।

अरुण कुमार निगम

5 comments:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 17.11.2016 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2529 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  2. अरुण जी, सभी दोहे बढिया लगे। भ्रष्टाचार मिटेगा इसी आशा में जनता इतने कष्ट सह रही है।

    ReplyDelete
  3. वाह वाह मस्त और सामयिक दोहे हैं ... आज तो सच में क्या राजा क्या रंक ......

    ReplyDelete