Followers

Saturday, January 7, 2012

गज़ल


ये मेहनत गाँव में करते तो अपना घर बना लेते
या  बूढ़े बाप की लाठी को , ताकतवर बना लेते.

इबादत काम की करते औ होता खेत ही मंदिर
कुदाली , हल को अपनी देह का जेवर बना लेते.

अगर  सूखा  पड़ा होता ,  पसीना यूँ बहाते हम
कभी  गेहूँ  बना  देते  , कभी  अरहर  बना लेते.

लुटाते गाँव में खुशियाँ , बहाते प्यार का अमृत
जहर पी -पी के अपने आप को शंकर बना लेते.

सुबह गाते भजन औ रात को कजरी सुनाते हम
अरुण गर शहर ना आते तो अपना घर बना लेते.

("ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" में शामिल)

 

अरुण कुमार निगम
आदित्य नगर , दुर्ग ( छत्तीसगढ़ )
विजय नगर , जबलपुर ( मध्य प्रदेश )

24 comments:

  1. agar shahar na aate to apna ghar bana lete....bahut sachchaai chupi hai in shabdon me.bahut achchi ghazal.

    ReplyDelete
  2. ्बहुत शानदार प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  3. अगर सूखा पड़ा होता , पसीना यूँ बहाते हम
    कभी गेहूँ बना देते , कभी अरहर बना लेते...waah waah

    ReplyDelete
  4. लुटाते गाँव में खुशियाँ , बहाते प्यार का अमृत
    जहर पी -पी के अपने आप को शंकर बना लेते.

    शानदार गज़ल अरुण भईया....
    सादर.

    ReplyDelete
  5. वाह वाह...
    बेहतरीन...

    ReplyDelete
  6. ***रश्मि प्रभा... has left a new comment on your post "गज़ल":

    अगर सूखा पड़ा होता , पसीना यूँ बहाते हम
    कभी गेहूँ बना देते , कभी अरहर बना लेते...waah waah
    Posted by रश्मि प्रभा... to अरुण कुमार निगम (हिंदी कवितायेँ) at January 7, 2012 11:59 AM

    ReplyDelete
  7. एक अदद छत की तलाश में दर-दर भटकता आदमी।

    ReplyDelete
  8. अगर सूखा पड़ा होता , पसीना यूँ बहाते हम
    कभी गेहूँ बना देते , कभी अरहर बना लेते.

    बिल्कुल नई भावभूमि पर रची गई सुंदर रचना।

    ReplyDelete
  9. ईमानदार कसक और टीस.

    ReplyDelete
  10. इबादत काम की करते औ ‘ होता खेत ही मंदिर
    कुदाली , हल को अपनी देह का जेवर बना लेते.

    बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  11. लुटाते गाँव में खुशियाँ , बहाते प्यार का अमृत
    जहर पी -पी के अपने आप को शंकर बना लेते.

    सुबह गाते भजन औ रात को कजरी सुनाते हम
    अरुण गर शहर ना आते तो अपना घर बना लेते.
    badhai Nigam sahab ....bhai Vah kya khoob likha hai apne.

    ReplyDelete
  12. bahut sundar gazal..kitne sundar aur haqiqat se jude she'r .. Badhai.. Navvarsh par shubhkaamnayen

    ReplyDelete
  13. शब्दों की अनवरत और गहन अभिवयक्ति........ और सार्थक पोस्ट.....

    ReplyDelete
  14. सुबह गाते भजन औ रात को कजरी सुनाते हम
    अरुण गर शहर ना आते तो अपना घर बना लेते.

    अर्थपूर्ण अभिव्यक्ति ..

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर भाव
    आशा

    ReplyDelete
  16. सुंदर रचना।
    गहरे भाव।

    ReplyDelete
  17. बहुत अच्छी गजल...अच्छे भावों से सजी|
    ओ बी ओ पर दोहे भी पढ़े-'श्रद्धा के दो फूल' ये दोहा बहुत पसंद आया|
    सभी दोहे अच्छे थे|

    ReplyDelete
  18. बेहद ख़ूबसूरत एवं उम्दा अभिव्यक्ति ! बधाई !

    ReplyDelete
  19. *****संगीता स्वरुप ( गीत ) has left a new comment on your post "गज़ल":

    खूबसूरत गज़ल

    ReplyDelete
  20. bahu hi sundar sir is gajal ne to dil jeet liya !!

    ये मेहनत गाँव में करते तो अपना घर बना लेते
    या बूढ़े बाप की लाठी को , ताकतवर बना लेते.

    ReplyDelete