Followers

Saturday, February 25, 2012

होम करते हाथ ................

देखने में रस की जो  छागल लगे
इस तरह के शख्स तो घायल लगे .

घुंघरुओं में थी मधु झंकार पर
बेबसी के पाँव की पायल लगे.

होम करते हाथ जिनके जल गये
वो जमाने को निरे पागल लगे.

दाग दामन का समझते हैं जिन्हें
वो छलकती आँख का काजल लगे.

बिजलियाँ सीने में जिनके कैद हैं
सुख लुटाते , सावनी बादल लगे.

छाँव जिनके सर रही, अंजान हैं
धूप में वो प्यार का आँचल लगे.

पी रहा जो जिंदगी भर विष अरुण
रंग उसके तन का अब श्यामल लगे.

अरुण कुमार निगम
आदित्य नगर, दुर्ग (छत्तीसगढ़)
विजय नगर, जबलपुर (म.प्र.)

23 comments:

  1. वाह!!!!!!बहुत,बेहतरीन अच्छी प्रस्तुति,सुंदर भाव की रचना के लिए बधाई,.....

    NEW POST...फुहार...हुस्न की बात...

    ReplyDelete
  2. होम करते हाथ जिनके जल गये
    वो जमाने को निरे पागल लगे...और जिनके घर में पवित्रता बिखरी वे बुद्धिजीवी पावन हो गए

    ReplyDelete
  3. दाग दामन का समझते हैं जिन्हें
    वो छलकती आँख का काजल लगे.

    वाह..
    बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  4. बिजलियाँ सीने में जिनके कैद हैं
    सुख लुटाते , सावनी बादल लगे.

    गजल का हर शेर मनभावन लगे ... बहुत सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  6. बहुत बहुत खुबसूरत पंक्तिया..... बेहतरीन रचना....

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  8. क्षमा सहित -


    है आश्रम अ-व्यवस्थिति, अनमना --

    किन्तु अंतरजाल पर चापल लगे ।


    लेखनी को देख के समझा छड़ा --

    पर हकीकत में कवी छाँदल लगे ।।


    दिनेश की टिप्पणी - आपका लिंक
    http://dineshkidillagi.blogspot.in

    ReplyDelete
  9. पी रहा जो जिंदगी भर विष अरुण
    रंग उसके तन का अब श्यामल लगे........अंतिम दो पंक्तियां तो लाजवाब है। अद्भुत।

    ReplyDelete
  10. yadi aap mere dwara sampadit kavy sangrah mein shamil hona chahti hain to sampark karen
    rasprabha@gmail.com

    ReplyDelete
  11. छाँव जिनके सर रही, अंजान हैं
    धूप में वो प्यार का आँचल लगे.

    पी रहा जो जिंदगी भर विष अरुण
    रंग उसके तन का अब श्यामल लगे.
    ----------------------

    सरसता मौजूद है हर पंक्ति में
    रेत से रिसता हुआ मधुजल लगे।

    ReplyDelete
  12. वाह! वाह! आदरणीय अरुण भईया...
    सुन्दर प्रस्तुति...
    सादर बधाई..

    ReplyDelete
  13. बिजलियाँ सीने में जिनके कैद हैं
    सुख लुटाते , सावनी बादल लगे.
    बेहतरीन ग़ज़ल भाईसाहब लाज़वाब kargyaa हर बशीर और उसके मायने .बड़ी ही अर्थपूर्ण रही पूरी रचना .

    ReplyDelete
  14. होम करते हाथ जिनके जल गये
    वो जमाने को निरे पागल लगे...
    कडवी सच्चाई...

    बहुत ही खूबसूरत कविता अरुण जी !

    ReplyDelete
  15. होम करते हाथ जिनके जल गये
    वो जमाने को निरे पागल लगे.

    -वाह अरुण भाई...बहुत खूब कहा!!

    ReplyDelete
  16. होम करते हाथ जिनके जल गये
    वो जमाने को निरे पागल लगे

    बहुत खूब

    ReplyDelete
  17. घुंघरुओं में थी मधु झंकार पर
    बेबसी के पाँव की पायल लगे.

    ....बहुत सुंदर...हर पंक्ति दिल को छू जाती है...

    ReplyDelete
  18. पी रहा जो जिंदगी भर विष अरुण
    रंग उसके तन का अब श्यामल लगे....

    बहुत खूब .. अरुण जी हर पंक्ति प्रभावित करती है इस रचना की ... लाजवाब ...

    ReplyDelete
  19. दिल को छूती पंक्तियाँ, सुंदर रचना के लिए अरुण जी,...बधाई,...

    NEW POST ...काव्यान्जलि ...होली में...

    ReplyDelete
  20. वाह अरुण भाई
    घुंघरुओं में थी मधु झंकार पर
    बेबसी के पाँव की पायल लगे.
    दो अलग अलग स्थितियों में भावों का प्रदर्शन
    बेबसी के पाँव की पायल लगे.अन्तेर्मन को झंझोड
    दिया है आभार....

    ReplyDelete