Followers

Wednesday, February 1, 2012

अब तो जाने दो भाई !


गई दुपहरी साँझ हो गई
अब तो जाने दो भाई !
दूर गाँव में मेरा घर है
राह देख रही माई !

साथ तुम्हारे बहुत रहा
छल मिले, न छलिया बना हृदय
सरल-सहज था मेरा मन
मैंने समझा मेरा है तनय.

मृगतृष्णा पर विश्वास किया
वह मेरे हाथ नहीं आई........................

मेरे अपने अपने न बने
सच जीवन के सपने न बने
उपवन में फूल खिलाये थे
वे फूल मिले पर धूल सने

बस साथ चली है सुख-दु:ख में
मेरे ही तन की परछाई......................................

अरुण कुमार निगम
आदित्य नगर,दुर्ग (छत्तीसगढ़)
विजय नगर, जबलपुर (म.प्र.)

32 comments:

  1. मन की व्यथा को खूबसूरती से लिखा है ..

    ReplyDelete
  2. बहुत भावपूर्ण अभिव्यक्ति...
    सादर.

    ReplyDelete
  3. मृगतृष्णा कब हाथ आती है , उसी से उबारने के लिए राह तकती है माई

    ReplyDelete
  4. तन की परछाई ..जीवन नैया पार लगाई..बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  5. दूर गाँव में मेरा घर है
    राह देख रही माई !

    इतनी प्यारी बात...
    बेमिसाल रचना है!
    Each line is quotable!
    Regards,

    ReplyDelete
  6. मेरे अपने अपने न बने
    सच जीवन के सपने न बने
    उपवन में फूल खिलाये थे
    वे फूल मिले पर धूल सने ...

    बहुत खूब अरुण जी ... अनुपम प्रस्तुति ... मधुर गीत है ...

    ReplyDelete
  7. sir... kafi achchha likha उपवन में फूल खिलाये थे
    वे फूल मिले पर धूल सने..

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  9. वाह आदरणीय अरुण भईया....
    सादर बधाई.

    ReplyDelete
  10. बेहतरीन प्रस्तुति सर ... समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है
    http://mhare-anubhav.blogspot.com/

    ReplyDelete
  11. //उपवन में फूल खिलाये थे
    वे फूल मिले पर धूल सने

    //बस साथ चली है सुख-दु:ख में
    मेरे ही तन की परछाई...

    kamaal sir.. ekdum kamaal..
    aapki kavitaao mein jo achook lay milti hai .. uska kaayal hun main.. itna aanand aata hai padhne mein ki bas kya kahiye.. :)

    ReplyDelete
  12. भावपूर्ण कविता के लिए आभार.....

    ReplyDelete
  13. aise kaise jane de....duniyadari ke abhi bahut se path padhne hain...suna hai na zindgi ki saanjh tak....antim saans tak padhna/seekhna padta hai.

    sunder prastuti.

    ReplyDelete
  14. गई दुपहरी साँझ हो गई
    अब तो जाने दो भाई !
    दूर गाँव में मेरा घर है
    राह देख रही माई !................एक माँ का इंतज़ार ...आपकी लेखनी ने जीवंत कर दिया हर एहसास को

    ReplyDelete
    Replies
    1. इस गीत में 'माई' से आशय उस परम् आत्मा से है जिसका हम अंश हैं.वो दुनियाँ मेरे बाबुल का घर,ये दुनियाँ ससुराल वाली पृष्ठ भूमि पर यह गीत रचा गया है

      Delete
  15. ये आपकी आत्माभिव्यक्ति की अकांक्षा को प्रदर्शित करता है।

    ReplyDelete
  16. वाह! बहुत खूब लिखा है आपने! लाजवाब प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  17. लाजवाब प्रस्तुती!..बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  18. मेरे अपने अपने न बने
    सच जीवन के सपने न बने
    उपवन में फूल खिलाये थे
    वे फूल मिले पर धूल सने ...

    माई से बढ़कर समझने वाला कोई नहीं होता...
    भावपूर्ण अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  19. ऐसी आध्यात्मिक बाते दिल को छू लेने वाली
    क्या बात है अरुण भाई

    ReplyDelete
  20. अति सुन्दर.... भाव पूर्ण अभिव्यक्ति....
    कृपया इसे भी पढ़े-
    नेता, कुत्ता और वेश्या

    ReplyDelete
  21. बहुत सुंदर रचना,लाजबाब प्रस्तुती .

    MY NEW POST ...40,वीं वैवाहिक वर्षगाँठ-पर...

    ReplyDelete
  22. Awesomeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeee

    ReplyDelete
  23. साथ तुम्हारे बहुत रहा
    छल मिले, न छलिया बना हृदय
    सरल-सहज था मेरा मन
    मैंने समझा मेरा है तनय.

    मृगतृष्णा पर विश्वास किया
    वह मेरे हाथ नहीं आई........................

    mn ki vytha ki spsht jhalk bilkul jeevant rachana Nigam sahab badhai sweekaren.

    ReplyDelete
  24. बस साथ चली है सुख-दु:ख में
    मेरे ही तन की परछाई...............

    Gahan Bhav... Sach ko Ukerti Panktiyan....

    ReplyDelete
  25. कभी कभी तो अपनी परछाई भी सस्थ छोड जाती है. अरुण जी बहुत सुंदर भावनात्मक प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  26. मेरे अपने अपने न बने
    सच जीवन के सपने न बने
    उपवन में फूल खिलाये थे
    वे फूल मिले पर धूल सने

    बस साथ चली है सुख-दुख में
    मेरे ही तन की परछाई

    अपनी परछाई ही सदैव साथ रहती है लेकिन अंधेरे में वह भी साथ छोड़ देती है।
    अपनों की तो बात ही निराली है !

    ReplyDelete
  27. बस साथ चली है सुख-दु:ख में
    मेरे ही तन की परछाई........
    सुन्दर रचना जीवन की सचाइयों अनुभूतियों से रु -बा -रु .

    ReplyDelete
  28. आपकी कविता में मौलिकता का दर्शन सन्निहित है । कविता अच्छी लगी । मेरे पोस्ट पर आकर मेरा मनोबल बढ़ाएं । धन्यवाद ।

    ReplyDelete