Followers

Friday, December 23, 2011

पपीता.....


कच्चा  ताजा   हरा  पपीता
कई  गुणों  से  भरा  पपीता
सब्जी  बना कर खाया जाता
सबके मन को बहुत है भाता.

जैसे  -  जैसे  पकता  जाये
पीले   रंग  में ढलता  जाये.
विटामिन – सी   बढ़ता जाये
मधुर स्वाद से  सजता जाये.

प्रकृति  का  वरदान  पपीता
औषधि गुण की खान पपीता
है अमृत के  समान  पपीता
कर  देता  बलवान  पपीता.

इसमें ए बी सी डी विटामिन
थायमीन  और  रीबोफ्लेविन
एस्कोर्बिक एसिड और प्रोटीन
कार्पेसमाइन , बीटा केरोटीन.

तत्व  सभी  ये हैं हितकारी
करते   दूर   कई  बीमारी
सब्जी , फल दोनों उपयोगी
रखें  देह को  सदा निरोगी.

इसके बीज भी गुणकारी हैं
और बड़े  ही  चमत्कारी हैं
बीज चबा - चबा जो खाये
आँखों की रोशनी बढ़ जाये.

ब्यूटीपार्लर  न  जाना  चाहे
तन  सुंदर  भी  बनाना चाहे
पके  पपीते का  पेस्ट बनाये
मालिश देह की वह कर जाये.

थोड़ी  देर  यूँ   ही  सुस्ताये
उसके  बाद  स्नान कर आये
जो  भी  ये  युक्ति अपनाये
त्वचा नर्म कांतिवान हो जाये.

कच्चा पपीता माह भर खाये
मोटापा  वह   दूर   भगाये.
यह चर्बी को  कम है  करता
और शरीर को चुस्त है रखता.

अगर त्वचापर दाद हो जाये
कच्चे पपीते का दूध लगाये
शीघ्र ही अपना असर दिखाये
दाद खाज का नाश हो जाये.

पका  पपीता  पाचक  होता
उदर रोग में लाभदायक होता
तन में शक्ति का स्त्रोत बढ़ाता
और  नेत्र की ज्योत  बढ़ाता.

गर्भवती  स्त्री   को  बतायें
कच्चा पपीता कभी न खायें.
राय चिकित्सक की ले आयें.
तब  ही कोई  कदम बढ़ायें.

खाने  में  स्वादिष्ट  पपीता
करता  है  आकृष्ट  पपीता
सभी फलों में अच्छा पपीता
पका पपीता , कच्चा पपीता.
अरुण कुमार निगम
आदित्य नगर , दुर्ग ( छत्तीसगढ़ )
विजय नगर , जबलपुर ( मध्य प्रदेश )

21 comments:

  1. सच! पपीता तो गुणों की खान है ...
    निगम जी ..जैसे आप :-):-)
    नेक काम की बधाई !

    ReplyDelete
  2. खाने में बेजोड़ पपीता,
    लिखने का जी तोड़ सलीका,
    अरुण निगम ने सच लिख डाला,
    दिख जाए हर और पपीता.

    ReplyDelete
  3. वाह..
    बहुत बढ़िया..
    ईश्वर करें आपका स्टॉक कभी खत्म ना हो..

    ReplyDelete
  4. खाने में बेजोड़ पपीता,
    लिखने का जी तोड़ सलीका,
    अरुण निगम ने सच लिख डाला,
    दिख जाए हर और पपीता.

    kushvansh ji ne jo likha uske baad kuchh likhna shesh nahin hai...!!
    maine aapki aur bhi rachnaaye padhi hain..sab ki sab sahaj,saral aur gyaan vardhak hain...!!

    ReplyDelete
  5. अगर मैं शिक्षा मंत्री होता तो आपकी सारी बाल कविताएं कोर्स में लगवा देता।

    ReplyDelete
  6. great creation on fruits and vegetables...

    ReplyDelete
  7. बहुत खूब, बधाई

    मेरे ब्लॉग पर भी पधार कर अनुगृहीत करें.

    ReplyDelete
  8. वाह...सहेज कर रख लेने योग्य हैं सभी के सभी पोस्ट..

    कितने मनोहारी ढंग से आपने गुण गिनाये...बहुत बहुत सुन्दर...

    हितकारी, सुन्दर पोस्ट...

    ReplyDelete
  9. बहुत ज्ञानवर्धक और रोचक प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  10. ख़ूबसूरत शब्दों से सुसज्जित उम्दा रचना के लिए बधाई!
    क्रिसमस की हार्दिक शुभकामनायें !
    मेरे नये पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    ReplyDelete
  11. बहुत ही सुन्दर और निराले ढंग से आपने पपीता के गुणों को बताया है ...

    ReplyDelete
  12. आपकी ये रचनाएं पाठ्य पुस्तकों में शामिल करने लायक हैं।
    बहुत बढि़या।

    ReplyDelete
  13. आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल सोमवारीय चर्चामंच http://charchamanch.blogspot.com/ पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  14. बहुत खूब अरुण जी ... आज तो पपीते को खोल के रख दिया आपने ... बहुत बहुत ही मज़ा आ रहा है आपकी इस श्रंखला का ...

    ReplyDelete
  15. सुन्दर उपयोगी और सटीक रचना |
    आशा

    ReplyDelete
  16. पपीते के बारे में उपयुक्त जानकारी देती रचना ... बच्चे और बूढ़े सबको पढनी चाहिए ..

    ReplyDelete
  17. बहुत सुन्दर अरुण भईया.....
    आदरणीय मनोज सर सही कहते हैं, ये कवितायें कोर्स में होनी चाहिये....
    सादर..

    ReplyDelete
  18. ज्ञानवर्धक सुंदर रचना,...अच्छी प्रस्तुती,
    क्रिसमस की बहुत२ शुभकामनाए.....

    मेरे पोस्ट के लिए--"काव्यान्जलि"--बेटी और पेड़-- मे click करे

    ReplyDelete
  19. पपीते के बारे में भरपूर जानकारी .लेकिन गर्भवती पपीता न खाएं यह महज़ मिथ है विज्ञान नहीं है .पपीता विटामिन ए का अच्छा स्रोत है जिसकी कमी से गर्भस्थ रतौंधी ग्रस्त हो सकता है .अन्यथा यह एक बेहतरीन आलेख है पपीते पर .

    ReplyDelete
  20. akhir ap ne meri bat man hi lee ... mane ap se agrah kiya tha ki agli kavit papeete pr likhen aur ap ne sachmuch papeete ke roop me ak shandar prastuti di ..... bahai Nigam ji apki rachana bahut hi upyogi aur samaj ke hit me hai.... bahut bahut abhar.

    ReplyDelete