Followers

Monday, March 26, 2018

"कॉपी-पेस्ट सन्त के नाम टेलीग्राम"

हे कॉपी-पेस्ट सन्त !!! हे आधुनिक जगत के अवैतनिक दूत !!!  आपका समर्पण स्तुत्य है। सूर्योदय काल से रात्रि नीम विश्राम बेला तक आपका परोपकारी व्यक्तित्व, पराई पोस्ट को कॉपी-पेस्ट करते नहीं थकता। इस व्यस्तता में आप स्वयं सृजन शून्य हो जाते हैं। शून्य ही तो सम्पूर्ण ब्रम्हाण्ड का एकमात्र सत्य है। आज मानव इतना स्वार्थी हो गया है कि किसी दूसरे के बारे में सोचता ही नहीं है। ऐसे कालखंड में स्वयं के सृजन को त्याग कर आप पराये सृजन का प्रचार-प्रसार कर रहे हैं। यही कार्य आपको महानता प्रदान कर रहा है।

आपकी उदारता,किसी की भी पोस्ट की गुणवत्ता और गुणहीनता में तनिक भी भेदभाव नहीं रखती। ऐसी उदारता आपको समदर्शी बनाती है। आप कई बार दूसरों की रचनाओं को भी बिना उनका नाम दिए पेल देते हैं। अज्ञानता का अंधकार आज चारों दिशाओं में फैला हुआ है शायद इसी कारण से रचनाकार व्यर्थ ही आप पर रचना चोरी का आरोप लगा देते हैं। अब उन्हें कौन समझाए कि नाम में क्या रखा है। देवकी और यशोदा के अंतर को समझ पाना सबके लिए संभव भी कहाँ होता है।

हे कर्मनिष्ठ !!! अपने कर्तव्य के पालन हेतु आपने अपने स्वास्थ्य को भी  दाँव पर लगा दिया है। न प्रातः भ्रमण, न व्यायाम, न योगा, न विश्राम !!! और तो और नाश्ते और भोजन को भी आप पर्याप्त समय नहीं दे पाते। आपके मित्र, परिजन, परिचित और इष्टजन अज्ञानता में आप पर नानाविध दोषारोपण करते रहते हैं। ये सब नादान है, आपके सत्कर्मों का मूल्यांकन करना इनके बूते के बाहर है।  इतिहास गवाह है कि हर महान व्यक्ति को शुरू शुरू में कई तरह के विरोधों का सामना करना पड़ा है। आपका विशाल हृदय उनकी नादानियों को नजरअंदाज करता हुआ कर्तव्य मार्ग पर सतत चलते ही रहता है।

आपके कार्यक्षेत्र की विशालता, बाप रे बाप !!! साहित्य, संगीत, विविध कलाएँ, इतिहास, भूगोल, धर्म,  राजनीति, समाज शास्त्र, अर्थ शास्त्र, गाँव, मुहल्ला, देश, विदेश, ब्रम्हाण्ड, भौतिकी, रसायन, जीव-वनस्पति विज्ञान, आकाश, धरा, पाताल, नेता, प्रशासन, सत्ता, विपक्ष, अखबार, मीडिया......क्या क्या नहीं होता आपकी पोस्टों में। प्रगतिशील ऐसे कि आडियो-वीडियो भी आपकी नजर से अछूते नहीं रह पाते हैं। आप गुडमार्निंग से गुडनाइट तक व्याप्त हैं।

आपकी स्तुति में और क्या कहूँ ? आप स्तुति में विश्वास भी तो नहीं रखते।ज्यादा लम्बी पोस्ट को कोई पढ़ता नहीं है इसीलिए इस तार को चिट्ठी समझ कर पढ़ लेना और सोशल मीडिया को अपने ज्ञान से आलोकित करते रहना।

*अरुण कुमार निगम*
आदित्य नगर, दुर्ग, छत्तीसगढ़

5 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (27-03-2017) को "सरस सुमन भी सूख चले" (चर्चा अंक-2922) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. बहुत बहुत आभार आदरणीय शास्त्री जी

    ReplyDelete
  3. आदरणीय / आदरणीया आपके द्वारा 'सृजित' रचना ''लोकतंत्र'' संवाद मंच पर 'सोमवार' ० २ अप्रैल २०१८ को साप्ताहिक 'सोमवारीय' अंक में लिंक की गई है। आमंत्रण में आपको 'लोकतंत्र' संवाद मंच की ओर से शुभकामनाएं और टिप्पणी दोनों समाहित हैं। अतः आप सादर आमंत्रित हैं। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    टीपें : अब "लोकतंत्र" संवाद मंच प्रत्येक 'सोमवार, सप्ताहभर की श्रेष्ठ रचनाओं के साथ आप सभी के समक्ष उपस्थित होगा। रचनाओं के लिंक्स सप्ताहभर मुख्य पृष्ठ पर वाचन हेतु उपलब्ध रहेंगे।

    निमंत्रण

    विशेष : 'सोमवार' ० २ अप्रैल २०१८ को 'लोकतंत्र' संवाद मंच अपने सोमवारीय साप्ताहिक अंक में आदरणीय 'विश्वमोहन' जी से आपका परिचय करवाने जा रहा है।


    अतः 'लोकतंत्र' संवाद मंच आप सभी का स्वागत करता है। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    ReplyDelete
  4. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  5. निमंत्रण

    विशेष : 'सोमवार' १६ अप्रैल २०१८ को 'लोकतंत्र' संवाद मंच अपने साप्ताहिक सोमवारीय अंक में ख्यातिप्राप्त वरिष्ठ प्रतिष्ठित साहित्यकार आदरणीया देवी नागरानी जी से आपका परिचय करवाने जा रहा है। अतः 'लोकतंत्र' संवाद मंच आप सभी का स्वागत करता है। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/



    टीपें : अब "लोकतंत्र" संवाद मंच प्रत्येक 'सोमवार, सप्ताहभर की श्रेष्ठ रचनाओं के साथ आप सभी के समक्ष उपस्थित होगा। रचनाओं के लिंक्स सप्ताहभर मुख्य पृष्ठ पर वाचन हेतु उपलब्ध रहेंगे।

    ReplyDelete