Followers

Sunday, November 27, 2011

मेथी की भाजी........


मेथी  की  कड़ुवाहट  मीठी
मन को भाती , खूब सुहाती
कब्ज मिटाती , भूख बढ़ाती
गुणकारी  मेथी  की  भाजी.

गरमागरम पराठे मेथी
के, चटनी संग जो भी खाए
हाथ फेर कर पेट के ऊपर
“मजा आ गया” - कह सहराए.

पतिदेव रूठे - रूठे हों
इस नुस्खे को भी अजमाएँ
गरमागरम पराठे मेथी
के, चटनी संग खूब खिलाएँ.

प्यार , पराठे संग परोसें
प्यार करेगा जीवनसाथी
मेथी  की  कड़ुवाहट  मीठी
गुणकारी  मेथी  की  भाजी.

फास्ट-फूड में क्या रखा है
परम्परागत भोजन अच्छा
बच्चों को समझाएँ – प्यारे
अच्छा स्वास्थ्य ही धन है सच्चा.

कुदरत की नेमत है मेथी
औषधीय भी, व्यंजन भी है
जो कुदरत के साथ चला है
इस दुनियाँ में वही सुखी है.

रविवार है हाट में जाओ
लेकर आओ ताजी – ताजी
मेथी  की  कड़ुवाहट  मीठी
गुणकारी  मेथी  की  भाजी.

अरुण कुमार निगम
आदित्य नगर , दुर्ग ( छत्तीसगढ़ )
विजय नगर , जबलपुर ( मध्य प्रदेश )

31 comments:

  1. बेहतरीन लिखा है, हम भी चलते है

    ReplyDelete
  2. गरमागरम पराठे मेथी
    के, चटनी संग जो भी खाए
    हाथ फेर कर पेट के ऊपर
    “मजा आ गया” - कह सहराए........मजा आ गया”

    ReplyDelete
  3. आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल सोमवारीय चर्चामंच http://charchamanch.blogspot.com/ पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  4. मेथी के पराठें खाने का मन हो आया...:)

    ReplyDelete
  5. मेथी की कड़ुवाहट मीठी
    गुणकारी मेथी की भाजी.

    बहुत सही लिखे हैं सर!
    ----
    कल 28/11/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  6. बहुत सच कहा है...मैथी की बनी हुई किसी चीज का ज़वाब नहीं..

    ReplyDelete
  7. मेथी महिमा अच्छी लगी!

    ReplyDelete
  8. सामयिक और सार्थक प्रस्तुति, आभार.

    ReplyDelete
  9. नये अंदाज़ के साथ आपने बहुत सुन्दर कविता लिखा है! मुझे मेथी के पराठे बेहद पसंद है! आपकी कविता पढ़ने के बाद मेथी के पराठे खाने का मन कर रहा है और कल नाश्ते में बनाने के लिए तय किया है!

    ReplyDelete
  10. बहुत खूब ... मेथी के परांठे ..क्या बात है ...

    ReplyDelete
  11. वाह भाई वाह |
    खा के मजा आ गया ||
    बधाई ||

    खा कर अच्छा लगा ||

    ReplyDelete
  12. बहुत खूब . मेथी के परांठे बहुत अच्छे लगे..

    ReplyDelete
  13. वाह!मेथी पर इतनी अच्छी कविता हो सकती है, कभी सोचा भी न था।

    ReplyDelete
  14. पतिदेव को मनाने का नायाब तरीका खोजा है |
    आशा

    ReplyDelete
  15. सर्दी और मैथी का स्वाद वाह ....

    ReplyDelete
  16. वाह ... बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  17. मेथी -महिमा पढकर मेथी का पराठा खाने का सोच लिया है हमने ..वो भी चटनी के साथ

    ReplyDelete
  18. बहुत खूब,मेथी की महिमा-महान.स्वाद आ गया.

    ReplyDelete
  19. अरुण जी,...
    नए अंदाज में लिखी खुबशुरत रचना,
    ठण्ड में मेथी के पराठे वो भी चटपटी
    चटनी के साथ,.बेहतरीन जी...
    मेरे पोस्ट 'शब्द'में आपका इंतजार है,....

    ReplyDelete
  20. गरमागरम पराठे मेथी
    के, चटनी संग खूब खिलाएँ.

    वाह! आदरणीय अरुण भईया... बढ़िया
    भूख लग आई...
    सादर..

    ReplyDelete
  21. मेथी अंकुरित कर खाये / कड़वा स्वाद भूल जायें

    ReplyDelete
  22. @ शरद कोकास has left a new comment on your post "मेथी की भाजी........":

    मेथी अंकुरित कर खाये / कड़वा स्वाद भूल जायें

    ReplyDelete
  23. @@ मन के - मनके has left a new comment on your post "मेथी की भाजी........":

    बहुत खूब,मेथी की महिमा-महान.स्वाद आ गया.

    ReplyDelete
  24. वाहा मज़ा आगया आपकी यह रचना पढ़कर और मेथी कि भाजी भी याद आ गई जो मुझे बहुत पसंद है। :-) बहुत ही लज़्ज़त दार और बहुत ही बढ़िया संदेश देती पोस्ट शुभकामनायें ...समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है।

    http://mhare-anubhav.blogspot.com/

    ReplyDelete
  25. @@@ Pallavi has left a new comment on your post "मेथी की भाजी........":

    वाहा मज़ा आगया आपकी यह रचना पढ़कर और मेथी कि भाजी भी याद आ गई जो मुझे बहुत पसंद है। :-) बहुत ही लज़्ज़त दार और बहुत ही बढ़िया संदेश देती पोस्ट शुभकामनायें ...समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है।

    http://mhare-anubhav.blogspot.com/

    ReplyDelete
  26. वाह मज़ा आ गया ...

    ReplyDelete
  27. @@@@ Manav Mehta has left a new comment on your post "मेथी की भाजी........":

    वाह मज़ा आ गया ...

    ReplyDelete
  28. कम्माल की प्रस्तुति है आपकी.
    मेथी का अति सुन्दर गुणगान किया है आपने.
    प्रसन्न हो गया है मन मेरा.

    ReplyDelete
  29. मेथी के पराठों की याद क्यों करा दी आपने अरुण जी ... उफ्फ सर्दी और मेथी के परांठे ... और ये लाजवाब कविता ...

    ReplyDelete
  30. कविता पढ़ ली आपकी, पर इतना और बताएं,
    मेथी के व्यंजन की विधियाँ, हम किस स्रोत से पाएं

    ReplyDelete