Followers

Tuesday, April 30, 2013

अनकहा पैगाम...


अनकहा पैगाम...

बहुरिया के हाथ कच्चा आम है
सास खुश है, अनकहा पैगाम है |

वो समझता ही नहीं संकेत को
क्या कहूँ वो पूरा झण्डू बाम है |

झुनझुने के शोर से चुप हो गया
आम इंसां का यही तो काम है |

काम धंधे से मिली फुरसत हमें
साँझ पूजा , सुबह प्राणायाम है |

छोड़ आए हम जमाने की फिकर
अब कहीं जाकर मिला आराम है  |

अरुण कुमार निगम
आदित्यनगर, दुर्ग (छत्तीसगढ़)
शम्भूश्री अपार्टमेंट, विजय नगर, जबलपुर (मध्यप्रदेश)

15 comments:

  1. बहुरिया के हाथ कच्चा आम है
    सास खुश है, अनकहा पैगाम है |

    बहुत बेहतरीन सुंदर गजल ,,,वाह !!! क्या बात है,अरुण जी,बधाई

    RECENT POST: मधुशाला,

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
      आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
      सूचनार्थ...सादर।

      Delete
  2. झुनझुने के शोर से चुप हो गया
    आम इंसां का यही तो काम है |

    bahut badhiyan!

    -Abhijit (Reflections)

    ReplyDelete
  3. जमाने की फिक्र छूट जाये तो सच ही आराम ही आराम है .... खूबसूरत प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. काम धंधे से मिली फुरसत हमें
    साँझ पूजा , सुबह प्राणायाम है ..

    प्रणाम है इस गज़ल पे ... हर शेर अरुण जी कमाल है ... मस्त है ... जुदा है ...
    बहुत उम्दा है ..

    ReplyDelete
  5. बहुत ही बेहतरीन ग़ज़ल की प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  6. काम धंधे से मिली फुरसत हमें
    साँझ पूजा , सुबह प्राणायाम है |
    ye meri pasand baki chakachak
    abhar

    ReplyDelete
  7. काम धंधे से मिली फुरसत हमें
    साँझ पूजा , सुबह प्राणायाम है वाह बहुत बढिया गजल..आभार

    ReplyDelete
  8. बहुरिया के हाथ कच्चा आम है,
    सास खुश है, अनकहा पैगाम है ।

    लाज़वाब और ख़ूबसूरत बात कही है !

    ReplyDelete
  9. छोड़ आए हम जमाने की फिकर
    अब कहीं जाकर मिला आराम है |

    बहुत ही बढ़िया

    ReplyDelete
  10. आपने लिखा....हमने पढ़ा
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए कल 02/05/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  11. वाह आदरणीय गुरुदेव श्री वाह मज़ा आ गया सभी के सभी अशआर ह्रदय स्पर्शी लाजवाब धारदार जोरदार हुए हैं वाह इस शानदार ग़ज़ल हेतु दिली दाद के साथ साथ हार्दिक बधाई भी स्वीकारें. जय हो .

    ReplyDelete
  12. sundar rachna ...........aaram nahi milne vaala hai aapko kyonki agli rachna ka hame intjar hai

    ReplyDelete
  13. छोड़ आए हम जमाने की फिकर
    अब कहीं जाकर मिला आराम है |
    b ahut accha ..ye bhi jaruri hai ..

    ReplyDelete