Followers

Sunday, April 8, 2012

खिलने को तरसती हैं.............



बजती नहीं है बाँसुरी,  रूठी हैं उंगलियाँ
मयपान कर रही हैं  ,  रंगीन तितलियाँ.

क्या बात है ,   बाजार  बड़े  सूनसान  हैं
सजने लगी हैं आजकल श्मशान की गलियाँ.

बरसात अपने साथ लिये,   बाढ़ आ गई
जो बच गया,उस पे गिरीं आज बिजलियाँ.

बागों में बड़ी शान से,   हैं खार हँस रहे
खिलने को तरसती हैं मासूम-सी कलियाँ.

मेले की उस भीड़ में,   मालूम क्या देखा ?
कुछ जिस्म बिक रहे थे,मानों हों मछलियाँ.

अरुण कुमार निगम
आदित्य नगर, दुर्ग (छत्तीसगढ़)
विजय नगर, जबलपुर (म.प्र.)

22 comments:

  1. मेले की उस भीड़ में, मालूम क्या देखा ?
    कुछ जिस्म बिक रहे थे,मानों हों मछलियाँ.
    वाह!!!!!!बहुत सुंदर रचना,सार्थक अच्छी प्रस्तुति........
    निगम जी,..क्या बात है,बहुत दिनों से मेरे पोस्ट पर नही आ रहे
    जबकि मै नियमित रूप से आपके पोस्ट पर आता हूँ,..आइये स्वागत है,....

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: यदि मै तुमसे कहूँ.....

    ReplyDelete
  2. उल्टा-पुल्टा है शुरू, मौत साल दर साल ।

    जीवन को दफना चुकी, खूब बजावे गाल ।



    खूब बजावे गाल, धूप में दाल गलावे ।

    समय-पौध जंजाल, माल-मदिरा उपजावे ।



    रविकर कैसी लाश, मामला समझे सुल्टा ।

    पट्टा को दुहराय, मौत को ढोती उल्टा ।।

    ReplyDelete
  3. वाह !! एक अलग अंदाज़ कि रचना ......बहुत खूब

    ReplyDelete
  4. .....अंतिम पंक्तियाँ तो बहुत ही अच्छी लगीं..जबर्दस्त!!

    ReplyDelete
  5. बागों में बड़ी शान से, हैं खार हँस रहे
    खिलने को तरसती हैं मासूम-सी कलियाँ.

    बहुत खूब .... अच्छी गजल

    ReplyDelete
  6. कल 09/04/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  7. बरसात अपने साथ लिये, बाढ़ आ गई
    जो बच गया,उस पे गिरीं आज बिजलियाँ...

    जबरदस्त शेर है अरुण जी ... मज़ा आ गया इसके बागी तेवर देख के ... लाजवाब गज़ल है ...

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर वाह!
    आपकी यह ख़ूबसूरत प्रविष्टि कल दिनांक 09-04-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर लिंक की जा रही है। सादर सूचनार्थ

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर वाह!
    आपकी यह ख़ूबसूरत प्रविष्टि कल दिनांक 09-04-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर लिंक की जा रही है। सादर सूचनार्थ

    ReplyDelete
  10. बागों में बड़ी शान से, हैं खार हँस रहे
    खिलने को तरसती हैं मासूम-सी कलियाँ.

    गहन मर्म इन शब्दों में...

    ReplyDelete
  11. शानदार अंदाज के साथ शानदार रचना

    ReplyDelete
  12. अपना अंदाज व वजूद छोड़ती संजीदा गजल ... शुक्रिया जी /

    ReplyDelete
  13. वाह...

    बागों में बड़ी शान से, हैं खार हँस रहे
    खिलने को तरसती हैं मासूम-सी कलियाँ.

    बहुत बढ़िया गज़ल सर.
    सादर.

    ReplyDelete
  14. वाह...

    बागों में बड़ी शान से, हैं खार हँस रहे
    खिलने को तरसती हैं मासूम-सी कलियाँ.

    बहुत बढ़िया गज़ल सर.
    सादर.

    ReplyDelete
  15. बागों में बड़ी शान से, हैं खार हँस रहे
    खिलने को तरसती हैं मासूम-सी कलियाँ.

    सच्ची मगर तकलीफ़देह अभिव्यक्ति ...!

    ReplyDelete
  16. बरसात अपने साथ लिये, बाढ़ आ गई
    जो बच गया,उस पे गिरीं आज बिजलियाँ.

    काफ़ी दिनों बाद एक अच्छी सी गज़ल पढ़ने को मिली ... भूख को मिटती हुई और भूख को बढाती हुई भी ! नर्मदा के जल को नमन !
    शुक्रिया जनाब !!

    ReplyDelete
  17. .बहुत बढ़िया ग़ज़ल .नए प्रतीक ,चुभते से अर्थ .

    ReplyDelete
  18. बहुत ही तीखा और सटीक लेखन.
    दिल को कचोटता हुआ.

    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार,अरुण जी.

    ReplyDelete