Followers

Tuesday, May 25, 2021

 गीत - "क्या जाने कितने दिन बाकी"


क्या जाने कितने दिन बाकी

छक कर आज पिला दे साकी।।


आगे पीछे चले गए सब, मधुशाला में आने वाले

धीरे-धीरे मौन हो गए, झूम-झूम के गाने वाले।

अपनी बारी की चाहत में, बैठा हूँ मैं भी एकाकी।।

क्या जाने कितने दिन बाकी

छक कर आज पिला दे साकी।।


जाने वाले हर साथी को, घर तक है मैंने पहुँचाया

जर्जर काया पग डगमग थे, फिर भी मैंने फर्ज निभाया।

आने वाले को जाना है, रीत यही तो है दुनिया की।।

क्या जाने कितने दिन बाकी

छक कर आज पिला दे साकी।।


गीतकार - अरुण कुमार निगम

आदित्य नगर, दुर्ग. छत्तीसगढ़

Tuesday, February 2, 2021

"वासंती फरवरी"

 "वासंती फरवरी"


कम-उम्र बदन से छरहरी

लाई वसंत फिर फरवरी।


शायर कवियों का दिल लेकर

शब्दों का मलयानिल लेकर

गाती है करमा ब्याह-गीत

पंथी पंडवानी भरथरी

लाई वसंत फिर फरवरी।


गुल में गुलाब का दिवस लिए

इक प्रेम-दिवस भी सरस लिए

है पर्यावरण प्रदूषित पर

बातें इसकी हैं मदभरी

लाई वसंत फिर फरवरी।


इसकी भी अपनी हस्ती है

इसमें मेलों की मस्ती है

नमकीन मधुर कुछ खटमीठी

थोड़ी तीखी कुछ चरपरी

लाई वसंत फिर फरवरी।


यह बारह भाई-बहनों में

इकलौती सजती गहनों में

यूँ आती यूँ चल देती है

बस नजर डाल कर सरसरी

लाई वसंत फिर फरवरी।


सुख शेष कहाँ अब जीवन में

घुट रही साँस वातायन में

कुछ राहत सी दे जाती है

बन स्वप्न-लोक की जलपरी

लाई वसंत फिर फरवरी।


रचनाकार - अरुण कुमार निगम

आदित्य नगर, दुर्ग

छत्तीसगढ़