Followers

Thursday, August 1, 2013

गज़ल : बचत-खाता रहा हूँ...........



कमाई का फकत जरिया रहा हूँ
तेरी खातिर बचत खाता रहा हूँ ||

पिलाता ही रहा मैं जाम बन कर                           
कसम तोड़ी नहीं  प्यासा रहा हूँ ||

बनाये जब मकां  तो काट डाला
यहाँ तुलसी का मैं बिरवा रहा हूँ ||

न बाहर घर के  कोई बात आई
कभी गूंगा  कभी परदा  रहा हूँ ||

चला भी आ कभी गुजरे जमाने
तेरी यादों से दिल बहला रहा हूँ ||

अरुण कुमार निगम
आदित्य नगर,दुर्ग (छत्तीसगढ़)
शम्भूश्री अपार्टमेंट,विजय नगर,जबलपुर (मध्यप्रदेश)

(ओबीओ लाइव तरही मुशायरा में शामिल मेरी दूसरी गज़ल)

12 comments:

  1. यहाँ तुलसी का मैं बिरवा रहा हूँ ||

    वाह!

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि का लिंक आज बृहस्पतिवार (01-08-2013) को २९ वां राज्य ( चर्चा -1324 ) में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  3. शुभकामनायें आदरणीय-

    ReplyDelete
  4. प्रभावी भावाभ्यक्ति!
    सादर बधाई आदरणीय

    ReplyDelete
  5. न बाहर घर के कोई बात आई
    कभी गूंगा कभी परदा रहा हूँ ||

    बहुत खूबसूरत गज़ल

    ReplyDelete
  6. बहुत खुबसूरत ग़ज़ल प्रस्तुति !!

    ReplyDelete
  7. वाह! बहुत बढ़िया...बधाई

    ReplyDelete
  8. आपकी यह सुन्दर रचना दिनांक 02.08.2013 को http://blogprasaran.blogspot.in/ पर लिंक की गयी है। कृपया इसे देखें और अपने सुझाव दें।

    ReplyDelete
  9. ye sari chije vehoshi men hai to param dukh ki abhivyakti hai, yadi hosh me ho to param mukti hai, filahal jo bhi ho gazal bahut achhi hai. aabhar

    ReplyDelete