Followers

Wednesday, September 21, 2011

मैं क्या करता !!!


मैं तुम्हें अंक में लेने को लालायित था
इतने में आ गई मृत्यु, मैं क्या करता !!!
तुम रुष्ठ हुई हो नयनों के अश्रु लखकर
नयन-कटोरे रीते थे , मैं क्या भरता !!!

तुम रचती रही महावर अपने पाँवों में
हाथों में मेंहदी रचे बिना तुम क्या आती
तुमको था ‘सजना’ अतिप्रिय “सजना” से
दर्पण से कुछ कहे बिना तुम क्या आती.

कहता ही रह गया तुम्हें मैं जीवन भर
मन की सुंदरता ही सच्ची सुंदरता !!!

गहनों और परिधानों में  इतना खोई
उमर गई कब फिसल , तुम्हें न भान हुआ
मैं सज-धज तैयार हुआ जब जाने को
तब जाकर तुमको जीवन का ज्ञान हुआ.

और प्रतीक्षा में मैंने जीवन खोया
तुम जो रहती निकट भला मैं क्या मरता !!!

अरुण कुमार निगम
आदित्य नगर , दुर्ग
छत्तीसगढ़.

(रचना वर्ष- 1977)

23 comments:

  1. मैं सज-धज तैयार हुआ जब जाने को
    तब जाकर तुमको जीवन का ज्ञान हुआ.

    और प्रतीक्षा में मैंने जीवन खोया
    तुम जो रहती निकट भला मैं क्या मरता !!!

    इन पंक्तियों ने नि:शब्द कर दिया है ..भावनाओं का उद्द्वेग जैसे झरना बन फूट पड़ा है ..

    ReplyDelete
  2. उफ़ …………बेहद गहन भावनाओ का समावेश्…………ज़िन्दगी का फ़लसफ़ा बयाँ कर दिया……………शानदार दिल को छूती प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  3. और प्रतीक्षा में मैंने जीवन खोया
    तुम जो रहती निकट भला मैं क्या मरता !!!
    वाह, क्या बात है...
    सरल शब्दों में प्रभावशाली प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  4. भाई जी यह तो रचना का वही साल है

    जब मैंने कहा था --



    री अजन्ते दूर अब तुझसे चला मैं ||

    ReplyDelete
  5. बहुत ही प्रभावी और बेहतरीन रचना ....

    ReplyDelete
  6. ‘मैं क्या करता!!!’ तो लिख ही दिया
    अब भी क्या करना बाकी है?
    कुछ सूझा नहीं कि लिक्खूँ क्या
    इस सुन्दर प्रस्तुति के बदले
    बस इतना ही कि वाह! वाह!
    तुम ही बोलो! मैं क्या करता?...बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  7. बेहद गहन भावनाओ का समावेश्| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    राम-राम!

    ReplyDelete
  9. तुम रचती रही महावर अपने पाँवों में
    हाथों में मेंहदी रचे बिना तुम क्या आती
    तुमको था ‘सजना’ अतिप्रिय “सजना” से
    दर्पण से कुछ कहे बिना तुम क्या आती.
    इन पंक्तियों में मैं आध्यात्मिक अर्थ खोज रहा हूं। मन के भावों की उत्तम अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  10. कहता ही रह गया तुम्हें मैं जीवन भर
    मन की सुंदरता ही सच्ची सुंदरता !!!aur bahya saundarya me sab khatm ho chala

    ReplyDelete
  11. बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  12. और प्रतीक्षा में मैंने जीवन खोया
    तुम जो रहती निकट भला मैं क्या मरता
    विरह वेदना के साथ अपने प्रेम के अहसास को बताती सुकोमल संवेदनशील रचना /दिल को छु गई /बहुत बधाई आपको /
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है /जरुर पधारें /
    www.prernaargal.blogspot.com

    ReplyDelete
  13. Quite an emotional creation . Loving it.

    ReplyDelete
  14. बेहतरीन गीत अरुण भाई... वाह! सादर....

    ReplyDelete
  15. मैं सज-धज तैयार हुआ जब जाने को
    तब जाकर तुमको जीवन का ज्ञान हुआ.

    और प्रतीक्षा में मैंने जीवन खोया
    तुम जो रहती निकट भला मैं क्या मरता !!!
    oh..........
    नमन है आपको...निशब्द हूँ ...क्या कहूँ..धन्यवाद संगीता स्वरुप जी का हलचल पर इस रचना का लिंक देने का.एक उत्कृष्ट रचना पढ़ने को मिली.

    ReplyDelete
  16. और प्रतीक्षा में मैंने जीवन खोया
    तुम जो रहती निकट भला मैं क्या मरता !!!

    sara dard samait diya hai in panktiyon me

    jabardast lekhan.

    ReplyDelete
  17. गहनों और परिधानों में इतना खोई
    उमर गई कब फिसल , तुम्हें न भान हुआ
    मैं सज-धज तैयार हुआ जब जाने को
    तब जाकर तुमको जीवन का ज्ञान हुआ.


    और प्रतीक्षा में मैंने जीवन खोया
    तुम जो रहती निकट भला मैं क्या मरता !!!

    आपकी रचना ने मन बहा दिया....सचमुच जब सब हाथ से छूट जाने का समय आता है तब हाथ में स्थित वास्तु के मूल्य का बोध होता है...

    बहुत ही भावपूर्ण ,मनमोहक इस रचना के लिए आपका आभार...
    बहुत आनंद आया पढ़कर...

    ReplyDelete
  18. प्रभावी रचना....

    ReplyDelete
  19. कल 14/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  20. आतंरिक सुंदरता ही सर्वस्व है...यथार्थ रचना...

    ReplyDelete
  21. बहुत ही बेहतरीन,गहन ,भावाभिव्यक्ति है...

    ReplyDelete