Followers

Sunday, September 8, 2019

छोटी सी ग़ज़ल - अरुण कुमार निगम

चुटकुलों से हँसाने लगे हैं।
मंच पे खूब छाने लगे हैं।।

इल्म तो है नहीं शायरी का।
खुद को ग़ालिब बताने लगे हैं।।

हुक्मरानों पे पढ़ के कसीदे।
खूब ईनाम पाने लगे हैं।।

मसखरे लॉबियों में परस्पर।
रिश्ते-नाते निभाने लगे हैं।।

जुगनुओं की हिमाकत तो देखो।
आँख "अरुण" को दिखाने लगे हैं।।

- अरुण कुमार निगम
आदित्य नगर,दुर्ग, छत्तीसगढ़

4 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (09-09-2019) को    "सोच अरे नादान"    (चर्चा अंक- 3453)   पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. बड़ सुग्घर गजल आदरणीय

    ReplyDelete
  3. Really Appreciated . You have noice collection of content and veru meaningful and useful. Thanks for sharing such nice thing with us. love from Status in Hindi

    ReplyDelete
  4. Best Valentine’s Day gift 2020 ideas for girlfriend, boyfriend,  husband, wife, her and him.  Cheap and best online valentine gifts in India. Valentines day gift for girlfriend.

    ReplyDelete