Followers

Thursday, February 6, 2014

शुभ-वसंत


मुझको हे वीणावादिनी वर दे
कल्पनाओं को तू नए पर दे |

अपनी गज़लों में आरती गाऊँ
कंठ को मेरे तू मधुर स्वर दे |

झीनी झीनी चदरिया ओढ़ सकूँ
मेरी झोली में ढाई आखर दे |

विष का प्याला पीऊँ तो नाच उठूँ
मेरे पाँवों को ऐसी झाँझर दे |

सुनके अंतस् को मेरे ठेस लगे 
मेरी रत्ना को ऐसे तेवर दे |

साँस सौरभ समाए शामोसहर
मुक्त विचरण करूँ वो अम्बर दे |

सूर बन कर चढ़ाऊँ नैन तुझे
इन चिरागों में रोशनी भर दे ||

(तरही ग़ज़ल)

अरूण कुमार निगम 
आदित्य नगर, दुर्ग (छत्तीसगढ़)

14 comments:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (07.02.2014) को " सर्दी गयी वसंत आया (चर्चा -1515)" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है,धन्यबाद।

    ReplyDelete
  2. मुझको हे वीणावादिनी वर दे
    कल्पनाओं को तू नए पर दे |
    बहुत खूब,सुंदर गजल ...! बधाई

    RECENT POST-: बसंत ने अभी रूप संवारा नहीं है

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर सरस्वती बन्दना .... बसंत पंचमी की शुभकामनायें ..

    ReplyDelete
  4. आपकी इस प्रस्तुति को आज की जन्म दिवस कवि प्रदीप और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  5. कृपालु रहें वीणावादिनी !

    ReplyDelete
  6. माँ शारदा कृपा करें ! शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  7. नमन करूं चरणन में माँ सरस्वती।

    ReplyDelete
  8. कल्पनाओं को तू नए पर दे |
    बहुत खूब,सुंदर गजल .....!!

    ReplyDelete
  9. अपनी गज़लों में आरती गाऊँ
    कंठ को मेरे तू मधुर स्वर दे |
    बहुत खूब,सुंदर गजल





    ReplyDelete
  10. मीठी, मन भावन गजाल अरुण जी ...

    ReplyDelete
  11. सुन्दर रचना

    ReplyDelete