Followers

Friday, September 7, 2012

मन को जरा टटोलो जी .......

स्वर में अमृत घोलो जी
फिर अधरों को खोलो जी |

नहीं खर्च कुछ होने का

मीठा – मीठा बोलो जी |.


देने वाला कैसे दे ?

हाथ मलिन हैं धो लो जी |


मन से पश्चाताप करो

प्रायश्चित कर रो लो जी |


नाव सम्हल ना पाएगी

इतना भी मत डोलो जी |


मान सहित घर पहुँचा दे

साथ उसी के हो लो जी |


जीवन में क्या दिया-लिया

मन को जरा टटोलो जी |


अधिक जागरण ठीक नहीं

चादर तानो सो लो जी |


अरुण कुमार निगम
आदित्य नगर , दुर्ग (छत्तीसगढ़)
विजय नगर, जबलपुर (म.प्र.)

22 comments:

  1. बहुत बढ़िया निगम साहब-
    दिल्ली की हवा रास आ रही है-
    पर---

    स्वर में अमृत घोला है |
    मीठा मीठा बोला है |
    अब मतलब की बात करेगा-
    टाँगे लम्बा झोला है ||


    ReplyDelete
  2. नाव सम्हल ना पाएगी
    इतना भी मत डोलो जी |
    सुझाव बहुत अच्छे हैं लेकिन कोई मानें तो .....

    ReplyDelete
  3. जिंदगी तो सभी को मिलती
    जीवन में कुछ कर लो जी,,,,,बहुत खूब अरुण जी,,,,

    ReplyDelete
  4. मन से पश्चाताप करो
    प्रायश्चित कर रो लो जी | ... मन को यूँ साफ़ कर लो जी

    ReplyDelete
  5. सटीक और सुंदर सीख देती हुई प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर.
    हल्की फुल्की....मगर वज़नदार बात कहती रचना..

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  7. वाह बेहतरीन खुबसूरत रचना, बधाई स्वीकारें

    ReplyDelete
  8. जीवन में क्या दिया-लिया
    मन को जरा टटोलो जी ...
    बहुत खूब अरुण जी ... छोटी बहर का कमाल ... सभी शेर लाजवाब .... बधाई ...

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (09-09-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  10. बहुत ही सुंदर भाव संयोजन अरुण जी,एकदम सटीक और सुंदर सीख देती लाजवाब प्रस्तुति। आभार ....

    ReplyDelete
  11. आज 09/09/2012 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  12. अच्छी सीख देती हुई सीधे सरल शब्दों में ......

    ReplyDelete
  13. chhote chhote saral shabdon se sajee sundar rachana

    ReplyDelete
  14. सीधे ,सरल शब्दों में बहुत गहरी बात है इस रचना में..
    बहुत ही बेहतरीन रचना...
    :-)

    ReplyDelete
  15. जीवन में क्या दिया-लिया
    मन को जरा टटोलो जी ।

    कितनी सुंदर पंक्तियां हैं !...लाजवाब !
    पूरी रचना बेमिसाल।

    ReplyDelete
  16. मन को जरा टटोलो जी .......
    स्वर में अमृत घोलो जी
    फिर अधरों को खोलो जी |

    नहीं खर्च कुछ होने का
    मीठा – मीठा बोलो जी |.

    देने वाला कैसे दे ?
    हाथ मलिन हैं धो लो जी |

    मन से पश्चाताप करो
    प्रायश्चित कर रो लो जी |

    नाव सम्हल ना पाएगी
    इतना भी मत डोलो जी |

    मान सहित घर पहुँचा दे
    साथ उसी के हो लो जी |

    जीवन में क्या दिया-लिया
    मन को जरा टटोलो जी |

    अधिक जागरण ठीक नहीं
    चादर तानो सो लो जी |

    दिल को लाख सम्भाला जी ,

    फिर भी दिल मतवाला जी ,

    कल तक मेरा था ,आज ये तेरा हो गया .
    ram ram bhai
    मंगलवार, 11 सितम्बर 2012
    देश की तो अवधारणा ही खत्म कर दी है इस सरकार ने

    ReplyDelete

  17. बहुत खा लिए कोयले अब ,

    कुछ तो ठंडा हो लो जी .

    वोटों की गिनती छोडो ,

    राज धरम कुछ तौलो जी .

    ReplyDelete

  18. दिनांक 23/12/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  19. और अंत में...
    स्वर में अमृत घोलो जी
    अधिक जागरण ठीक नहीं
    चादर तानो सो लो जी |

    ReplyDelete
  20. बहुत प्यारी रचना अरुण जी.

    ReplyDelete
  21. मन से पश्चाताप करो
    प्रायश्चित कर रो लो जी |

    नाव सम्हल ना पाएगी
    इतना भी मत डोलो जी |

    manbhavan hai rachna Arun ji. http://kpk-vichar.blogspot.im

    ReplyDelete